Monday, 1 October 2018

Shayari Siyaasat or Mulq सियासत और मुल्क़

ShayariSiyaasat or Mulqसियासत और मुल्क़

Shayari Siyaasat
सियासत बीच में आई है वैसे
किसन जुम्मन में गहरी दोस्ती है

SIYAASAT BEECH MEIN AAI HAI WAISE
KISAN JUMMAN MEIN GAHARI DOSTI HAI

बेड़ियां मज़हबी जितनी हैं तोड़ डालेगी
गले चन्दन के जब लगेगी इत्र की ख़ुशबू

BEDIYAAN MAZAHABI JITANI HAIN TOD DAALEGI
GALE CHANDAN KE JAB LAGEGI ITR KI KHUSHBOO

ये ज़ाहिर हो गया हालात से कि
सियासत सारे करतब जानती है

YE ZAAHIR HO GAYA HALAT SE KI
SIYAASAT SAARE KARTAB JANATI HAI

वैसे तो अपने मुल्क़ में
सब ख़ैरियत है पर
कुछ लोग हैं जो
आग लगाने में लगे हैं

WAISE TO APANE MULQ MEIN
SAB KHAIRIYAT HAI PAR
KUCHH LOG HAIN JO
AAG LAGAANE MEIN LAGE HAIN

प्यार मोहब्बत बाटेंगे - Pyaar Mohabbat Baatenge
Shayari Siyaasat
Shayari by Raj

बोया अगर बबूल जो हमने,

आम कहाँ से काटेंगे
इस दुनिया को रचने वाले,
उल्टा हमको डाटेंगे
हिन्दू ,मुस्लिम चिल्लाना है
काम सियासतदारों का
आओ हम तुम मिलकर यारो,
प्यार मोहब्बत बाटेंगे

BOYA AGAR BABOOL JO HAMANE,
AAM KAHAAN SE KAATENGE
IS DUNIYA KO RACHANE WALE,
ULTA HAMAKO DAATENGE
HINDU ,MUSLIM CHILLAANA HAI
KAAM SIYAASATDARO KA
AAO HUM TUM MILAKAR YAARO,
PYAAR MOHABBAT BAATENGE

शायर - राकेश"राज"

Shayari By-Rakesh"Raj"

Hindi Shayari