Saturday, 22 September 2018

Love Shayari, ये आँखें - YE AANKHEN

Shayari

Love Shayari, ये आँखें - YE AANKHEN

ye aankhe shayari
यूँ अपने आप से
आँखें चुरा रहा है वो
हमारे ज़िक्र पे
महफ़िल से जा रहा है वो
-राकेश"राज"

YOON APANE AAP SE
AANKHEN CHURA RAHA HAI WO
HAMAARE ZIKR PE
MAHAFIL SE JA RAHA HAI WO
 -Rakesh"Raj"

बस वादों की चहल पहल थी
नाम की न तन्हाई थी
दश्त-ए-उल्फ़त में हर सू
तेरी यादों की परछाई थी

साथ तुम्हारे हमने जानां
वो मन्ज़र भी देखा है
ख़ुशियों का अम्बार लगा था
ग़म की आँखें आई थी
-राकेश"राज"

BAS WADON KI CHAHAL PAHAL THI
NAAM KI NA TANHAI THI
DASHT-E-ULFAT MEIN HAR SU
TERI YAADON KI PARCHHAI THI
SAATH TUMHAARE HUMANE JANAAN
WO MANZAR BHI DEKHA HAI
KHUSHIYON KA AMBAAR LGA THA
GUM KI AANKHEN AAI THI
-Rakesh"Raj"

shayari Aankhe
Love Shayari, ये आँखें - YE AANKHEN
कई दिनों से
हुआ नहीं दीदार तिरा
अब समझा मैं
ये आँखें क्यूँ दुखतीं हैं
-राकेश"राज"

KAI DINON SE
HUA NAHIN DEEDAAR TIRA
AB SAMAJHA MAIN
YE AANKHEN KYOON DUKHATEEN HAIN
-Rakesh"Raj"

अच्छी नाइंसाफी है
दो आँखों में सारे ख़्वाब
-राकेश"राज"

ACHCHI NAAINSAAFI HAI
DO AANKHON MEIN SAARE KHWAB
-Rakesh"Raj"

ख़ाबों से लड़ने लगती हैं
रातों को इसलिए
टेबल पे रखनी पड़ती हैं
आँखें निकालकर
-राकेश"राज"

KHAWON SE LADANE LAGATI HAIN
RAATON KO ISILIYE
TEBLE PE RAKHANI PADATI HAIN
AANKHEN NIKAALKAR