Thursday, 13 September 2018

Love Shayari, नज़रों का धोखा - NAZARON KA DHOKHA

Love Shayari

नज़रों का धोखा - NAZARON KA DHOKHA

Shayari Nazaron ka dhokha
इक पल लगता वो ऐसा था
और इक पल वो वैसा था
दिखने में जो शख़्स जहाँ तक
बिल्कुल तेरे जैसा था
देख के उसको ज़ेहन मिरा
बस इसी सोच में उलझा है
तू गुज़रा था वो क़रीब से
या नज़रों का धोखा था
-राकेश"राज"

IK PAL LAGATA WO AISA THA
AUR IK PAL WO WAISA THA
DIKHNE MEIN JO SHAKHS JAHAAN TAK
BILKUL TERE JAISA THA
DEKH KE USAKO ZEHAN MIRA
BAS ISI SOCH MEIN ULAJHA HAI
TU GUZARA THA WO QAREEB SE
YA NAZARON KA DHOKHA THA
-Rakesh"Raj"

No comments: