Thursday, 16 August 2018

Love Shayari, Sirf Tum - सिर्फ तुम, Tumhi Se Pyaar - तुम्ही से प्यार, Khushboo Se Uski-ख़ुशबू से उसकी

Love Shayari, Sirf Tum - सिर्फ तुम, Tumhi Se Pyaar - तुम्ही से प्यार, Khushboo Se Uski-ख़ुशबू से उसकी

(सिर्फ तुम-Sirf Tum)

Love Shayari, Sirf Tum - सिर्फ तुम
Love Shayari, Sirf Tum - सिर्फ तुम
हो जाते हैं मुक़्क़मल शेर,
महफ़िल के वास्ते
"सिर्फ तुम" को सोचने में
ये फ़ायदा भी है
-राकेश"राज"

HO JAATE HAIN MUQQAMAL SHER,
MAHAFIL KE VAASTE
"SIRF TUM" KO SOCHANE MEIN
YE FAAYDA BHI HAI
-Rakesh"Raj"
-------------------------------------------------

(तुम्ही से प्यार-Tumhi Se Pyaar)

Love Shayari, Tumhi Se Pyaar - तुम्ही से प्यार
Love Shayari, Tumhi Se Pyaar - तुम्ही से प्यार
हमारी ज़िंदगी का जान
फ़क़त इतना फ़साना हैं
तुम्ही से प्यार करना है,
तुम्ही से दिल लगाना है
-राकेश"राज"

HUMARI ZINDAGI KA JAAN
FAQAT ITANA FASAANA HAI
TUMHI SE PYAAR KARNA HAI,
TUMHI SE DIL LAGANA HAI
-Rakesh"Raj"
-------------------------------------------------

(ख़ुशबू से उसकी-Khushboo Se Uski)

love shayari, ख़ुशबू से उसकी-Khushboo Se Uski
love shayari, ख़ुशबू से उसकी-Khushboo Se Uski
वो जो जा चुका है
मेरा साथ छोड़कर,
ख़ुशबू से उसकी अब भी
घर महकता क्यूँ है?
-राकेश"राज"

WO JO JA CHUKA HAI
MERA SATH CHHODKAR,
KHUSHBOO SE USKI AB BHI
GHAR MHAKTA KYUN HAI?
-Rakesh"Raj"
-------------------------------------------------