Monday, 18 June 2018

सबब से शब - Sabab se Shab

सबब से शब - Sabab se Shab

इसी सबब से शब भर मेरी आँख नहीं लग पाती है,
उसकी यादो और ख़्वाबो में झगडा चलता रहता है।

-राकेश"राज"

Isi Sabab se Shab bhari meri aankh nahi lag pati hai,
Uski yado aur khawabo me jhagda chalta rehta hai.

-Rakesh"Raj"

No comments: