Friday, 8 June 2018

Kavita, सिर्फ तुम..! Sirf Tum..!

Kavita, सिर्फ तुम..! Sirf Tum..!

Kavita, सिर्फ तुम Sirf Tum
Shayari by Raj Kavita Sirf Tum

(सिर्फ तुम..!)

तुम
हाँ
तुम
हाँ हाँ तुम
अरे हाँ सिर्फ तुम
ये जो तुम हो ना
मेरी यादों में,
बातों में,
दिन में,
रातों में,
ख़्वाबों में,
ख़यालों में,
पल में
हर पल में
जब तुम
बन जाते हो मेरे अल्फ़ाज़
उतर आते हो,
क़लम के ज़रिये
कोरे काग़ज़ पर
हम तुम की शक़्ल में
और सब कह पड़ते हैं
बिल्कुल तपाक से
वाह
क्या कहने
क्या बात
तो दिल कह उठता है
बहुत धीमी सी आवाज़ में
हो गई कविता
जो शुरू हुई थी
तुम से
सिर्फ तुम
हाँ
सिर्फ तुम
हाँ हाँ सिर्फ तुम
अरे हाँ सिर्फ तुम तक के लिये.....

-राकेश"राज"

(Sirf Tum..!)

TUM
HAAN
TUM
HAAN HAAN TUM
ARRE HAAN SIRF TUM
YEH JO TUM HO NA
MERI YAADON MEIN,
BAATON MEIN,
DIN MEIN,
RAATON MEIN,
KHBON MEIN,
KHAYAALON MEIN,
PAL MEIN
HAR PAL MEIN
JAB TUM
BAN JAATE HO MERE ALFAAZ
UTAR AATE HO, QALAM KE ZARIYE
KORE KAAGAZ PAR
HAM TUM KI SHAQL MEIN
AUR SAB KAH PADATE HAIN
BILKUL TAPAAK SE
WAAH
KYA KAHANE
KYA BAAT
TO DIL KAH UTHATA HAI
BAHUT DHIMI SI AWAAZ MEIN
HO GAI KAVITA
JO SHURU HUI THI
TUM SE
SIRF TUM
HAAN
SIRF TUM
HAAN HAAN SIRF TUM
ARRE HAAN SIRF TUM TAK KE LIYE.....


-Rakesh"Raj"