Friday, 8 June 2018

shayari, राज - Raaz

shayari, राज - Raaz

shayari, राज - Raaz
Shayaribyraj
अश्क़ों को पलकों पे,
सजाए रक्खा है।
होठों से गीतों को,
लगाए रक्खा है।।
सबके दिल की ली जो
तलाशी तो पाया।
सबने दिल में "राज"
छुपाए रक्खा है।।
-राकेश"राज"

ASHKO KO PALKO PE,
SAJAYE RAKKHA HAI
HONTHO SE GEETO KO
LAGAYE RAKKHA HAI
SABKE DIL KI LEE JO
TALASHI TOH PAYA
SABNE DIL ME "RAAZ"
CHUPAYE RAKKA HAI
-Rakesh"Raj"

No comments: