Tuesday, 29 May 2018

Shayari, छोटी सोच के छोटे लोग - CHHOTI SOCH KE CHHOTE LOG

Thoughts - Shayari

छोटी सोच के छोटे लोग - CHHOTI SOCH KE CHHOTE LOG

Choti doch ke log

महफ़िल महफ़िल बात बनाने लगते हैं
अपनी छोटी सोच दिखाने लगते हैं
मैं जो बढूँ तो,
छोटी सोच के छोटे लोग
मुझ पर ही आवाज़ उठाने लगते हैं


-राकेश"राज"

MAHAFIL MAHAFIL BAAT BANAANE LAGATE HAIN
APNI CHHOTI SOCH DIKHAANE LAGATE HAIN

MAIN JO BADHOON TO,

CHHOTI SOCH KE CHHOTE LOG
MUJH PAR HI AAVAAZ UTHAANE LAGATE HAIN


-Rakesh"Raj"

2 comments:

NITU THAKUR said...

बहुत गहरी सोच ...वाह बहुत खूब

AMIT NISHCHHAL said...

बहुत ख़ूब