Saturday, 26 May 2018

Shayari, Sher o Shayari - शे'र-ओ-शायरी

Shayari

Sher O Shayari - शे'र-ओ-शायरी

(कहने का शे'र शौक है-KAHNE KA SHER AAPAKO SHAUK HAI)

Shayari, Sher o Shayari - शे'र-ओ-शायरी
Shayari, Sher o Shayari - शे'र-ओ-शायरी
कहने का शे'र आपको
गर शौक है जनाब
अपनी ज़मीन उसके लिए
ख़ुद बनाइये

-राकेश"राज"


KAHNE KA SHER AAPAKO
GAR SHAUK HAI JANAAB
APANI ZAMEEN USAKE LIYE
KHUD BANAIYE
-Rakesh"Raj"


(उन हाथों को रखना सलामत-UN HAATHON KO RAKHNA SALAAMAT)


Shayari, Sher o Shayari - शे'र-ओ-शायरी
Shayari, Sher o Shayari - शे'र-ओ-शायरी
उन हाथों को रखना
मेरे मौला तू सलामत
हम शे'र कह रहे हैं
फ़क़त जिनकी दुआ से
-राकेश"राज"

UN HAATHON KO RAKHNA
MERE MAULA TU SALAAMAT
HUM SHER KAH RAHE HAIN
FAQAT JINAKI DUA SE
-Rakesh"Raj"

(तन्हा रहने वाला-TANHA RAHNE WALA)


अक्सर तन्हा रहने वाला
कर भी क्या सकता आखिर
बस ये करता है
महफ़िल में शे'र सुनाया करता है
-राकेश"राज"



AKSAR TANHA RAHNE WALA
KAR BHI KYA SAKATA AAKHIR
BAS YE KARTA HAI
MAHAFIL MEIN SHER SUNAAYA KARATA HAI
-Rakesh"Raj"

(दाद मिल जाएगी-DAAD MIL JAYEGI)

दाद मिल जाएगी बिना माँगे
उसके लायक की शायरी तो करो
-राकेश"राज"

DAAD MIL JAYEGI BINA MAANGE
USAKE LAAYAK KI SHAYARI TO KARO
-Rakesh"Raj"

(नाम की मेरे वो पहचान-NAAM KI MERE WO PAHCHAAN)

नाम की मेरे

ज़रूरत न पड़े दुनिया को,

शे'र को मेरे

वो पहचान अता कर मौला..!
-राकेश"राज"

NAAM KI MERE
ZAROORAT NA PADE DUNIYA KO,
SHER KO MERE
WO PAHCHAAN ATA KAR MAULA
-Rakesh"Raj"


(सुनाकर शे'र चोरी के-SUNAAKAR SHER CHORI KE)

गुमां उसको बहुत इसका
कि महफ़िल लूट ली उसने

मोहतरम हो गया है

वो सुनाकर शे'र चोरी के
-राकेश"राज"

GUMAAN USAKO BAHUT ISAKA
KI MAHAFIL LOOT LI USANE

MOHATARAM HO GAYA HAI

WO SUNAAKAR SHER CHORI KE

-Rakesh"Raj"

(अच्छा शे'र-ACHCHHA SHER)

मेरी समझ से बात है
ये बिल्कुल सच्ची 
अच्छा शे'र
कहा नहीं जाता, होता है
-राकेश"राज"

MERI SAMAJH SE BAAT HAI
YE BILKUL SACHCHI
ACHCHHA SHER

KAHA NAHIN JAATA, HOTA HAI

-Rakesh"Raj"


(अदब की-ADAB KI)

नहीं इसमें कोई शक के अदब की,
नए लड़के हिफ़ाज़त कर रहे हैं
-राकेश"राज"

NAHI ISAME KOI SHAQ KE ADAB KI,
NAYE LADAKE HIFAAZAT KAR RAHE HAIN
-Rakesh"Raj"