Saturday, 26 May 2018

Shayari, ख़्याल-Khayaal

Love Shayari

ख़्याल-Khayaal

डूबने का डर था
फ़क़त इसलिये मुझे,
बाहर ही आना पड़ गया
तेरे ख़्याल से
- राकेश"राज"



DOOBANE KA DAR THA
FAQAT ISILIYE MUJHE,
BAHAR HI AANA PAD GAYA
TERE KHYAAL SE

-Rakesh"Raj"