Wednesday, 23 May 2018

Shayari, ज़ीस्त की राहों में - Zeest Ki Rahon Mein

Shayari

ज़ीस्त की राहों में - Zeest Ki Rahon Mein

ज़ीस्त की राहों में होकर ये,
काम भी करना पड़ता है
इक आग के दरिया से सबको ही,
पार उतरना पड़ता है
- राकेश "राज"
(ज़ीस्त - जिन्दगी)

ZEEST KI RAHON MEIN HOKAR YE,
KAAM BHI KARNA PADTA HAI
EK AAG KE DARIYA SE SUBAKO HI,
PAAR UTARNA PADTA HAI
-Rakesh"Raj"
(ZEEST - ZINDAGI)

No comments: