Saturday, 1 December 2018

GAZAL, MOHABBAT KI HAWA KA ASAR DEKHIYE

ग़ज़ल

मोहब्बत की हवा का असर देखिये

GAZAL
MOHABBAT KI HAWA KA ASAR DEKHIYE

GAZAL, MOHABBAT
GAZAL, MOHABBAT KI HAWA KA ASAR DEKHIYE
ग़ज़ल
मोहब्बत की हवा का असर देखिये
मेरे कान्धे पे है उनका सर देखिये

सारे शिक़वे गिले दूर हो जाएंगे
प्यार से आप बस इक नज़र देखिये

ख़ूब मशहूर शोलाबयानी को था
जल रहा है ना वो जिसका घर देखिये

Sunday, 25 November 2018

Pyaar Shayari, best shayri for love in hindi

Pyaar Shayari - प्यार शायरी

Best Shayri For Love In Hindi

Pyaar Shayari, best shayri for love in hindi, shayari, love shayari ,hindi shayari image
Pyaar Shayari, best shayri for love in hindi

सब लोग कह रहे थे जो वैसा नहीं किया
हमने ज़माने का कभी पीछा नहीं किया


बेशक़ तुम्हीं को सोचते गुज़ारी है ज़िन्दगी
बेवजह अपने वक़्त को ज़ाया नहीं किया

SUB LOG KEH RAHE THE JO WAISA NAHI KIYA
HUMNE ZAMAANE KA KABHI PICHA NAHI KIYA

BESHAQ TUMHI KO SOCHTE JUZAARI HAI ZINDGI
BEWAJAH APNE WAQT KO ZAAYA NAHI KIYA


होंठ उसके हैं दो तन्हा मिसरे
वो जो हँस दे तो शे'र हो जाए

Friday, 23 November 2018

FRIENDSHIP SHAYARI, मन्नत - MANNAT

FRIENDSHIP SHAYARI, मन्नत - MANNAT

BEST FRIENDSHIP SHAYARI IMAGE

यारों को मेरे देखिये ना यार क्या हुआ
मेरी गिरा के कहते हैं दस्तार क्या हुआ


वैसे सुना था आप हो मन्नत नवाज़ फिर
मन्नत का मेरी बोलिये सरकार क्या हुआ

राकेश 'राज'

YARON KO MERE DEKHIYE NA YAAR KYA HUA
MERI GIRA KE KEHTE HAIN DASTAAR KYA HUA

WAISE SUNA THA AAP HO MANNAT NAWAZ FIR
MANNAT KA MERI BOLIYE SARKAR KYA HUA


Saturday, 3 November 2018

Love Shayari, Hindi Shayari, Best Shayari in Hindi

Love Shayari

Hindi Shayari, Best Shayari in Hindi

Love Shayari
सख़्त राहों में औ
तन्हाई के अंधियारों में
तेरी तस्वीर चराग़ों का
काम करती है

SAKHT RAHON MEIN AU
TANHAI KE ANDHIYARON MEIN
TERI TASVEER CHARAGON KA
KAAM KARATI HAI


hindi Shayari
कमी कुछ रह गई क्या चाहने में
हमें रक्खा गया है हाशिये में

Monday, 1 October 2018

Shayari Siyaasat or Mulq सियासत और मुल्क़

ShayariSiyaasat or Mulqसियासत और मुल्क़

Shayari Siyaasat
सियासत बीच में आई है वैसे
किसन जुम्मन में गहरी दोस्ती है

SIYAASAT BEECH MEIN AAI HAI WAISE
KISAN JUMMAN MEIN GAHARI DOSTI HAI

बेड़ियां मज़हबी जितनी हैं तोड़ डालेगी
गले चन्दन के जब लगेगी इत्र की ख़ुशबू